June 24, 2021

वीरेंद्र कंवर ने कोविड केंद्र हरोली के अंदर जाकर मरीजों से ली फीडबैक, सुविधाओं का जायजा लिया

वीरेंद्र कंवर ने कोविड केंद्र हरोली के अंदर जाकर मरीजों से ली फीडबैक, सुविधाओं का जायजा लिया

कंवर ने वार्ड में उपचाराधीन कोरोना संक्रमित का जाना कुशलक्षेम, सेवाओं पर जताई संतुष्टि

ऊना (8 दिसंबर)- ग्रामीण विकास, पंचायती राज, कृषि, मत्स्य तथा पशु पालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने आज कोविड सेंटर हरोली के वार्ड में जाकर कोरोना संक्रमितों से सुविधाओं की फीडबैक ली। पीपीई किट पहनकर वीरेंद्र कंवर लगभग 20 मिनट तक वार्ड में मौजूद रहे तथा कोरोना मरीजों को दी जा रही सुविधाओं के बारे में स्वयं जानकारी हासिल की और मरीजों से बातचीत भी की। इस दौरान उन्होंने कोविड केंद्र के भीतर स्वास्थ्य सेवाओं, खाने-पीने की व्यवस्था, शौचालयों की साफ-सफाई आदि के संदर्भ में बात की।वीरेंद्र कंवर ने बताया कि बातचीत के दौरान सभी मरीजों ने स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रदान की जा रही सुविधाओं पर संतुष्टि जताई। उन्होंने बेहतर सुविधाओं के लिए स्वास्थ्य विभाग तथा जिला प्रशासन ऊना को बधाई देते हुए फ्रंटलाइन वर्कर्स की सेवाओं की सराहना की। ग्रामीण विकास मंत्री ने कहा कि महामारी के दौर में विपक्ष अपनी बयानबाजी से सिर्फ लोगों को हतोत्साहित करने का प्रयास कर रहा है। मीडिया में बयान देने के अलावा विपक्षी नेताओं का इस कोरोना काल में और कोई योगदान नहीं है। विपक्ष के नेता आधारहीन बयानबाजी कर रहे हैं तथा उनके आरोप तथ्यों से परे हैं। आज स्वयं उन्होंने कोरोना मरीजों को प्रदान की जा रही सुविधाओं का निरीक्षण किया है तथा जिला ऊना में संक्रमितों को बेहतर सेवाएं प्रदान की जा रही हैं।सभी मानें सरकार के निर्देश ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि प्रदेश सरकार ने कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हैं तथा सभी को उन्हें मानना चाहिए। इन निर्देशों को मानकर ही कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा जा सकता है। कंवर ने कहा कि सामाजिक कार्यक्रमों में अधिकतम 50 लोगों के शामिल होने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर सभी मास्क लगाएं तथा दो गज की दूरी के नियम का पालन करें। इस दौरान उपायुक्त ऊना राघव शर्मा, एसपी अर्जित सेन ठाकुर, सीएमओ ऊना डॉ. रमण कुमार शर्मा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

जन समस्याओं को दूर करने की दिशा में कार्य करें विद्युत विभाग के अधिकारीः वीरेंद्र कंवर
ग्रामीण विकास मंत्री ने विद्युत विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की अध्यक्षता कीऊना (8 दिसंबर)- ग्रामीण विकास, पंचायती राज, कृषि, मत्स्य तथा पशु पालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को जन समस्याएं दूर करने की दिशा में कार्य करने के निर्देश दिए हैं। आज एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कंवर ने कहा कि अधिकारी गांव स्तर पर अपनी कार्य योजना बनाएं तथा कम वोल्टेज, पोल बदलने जैसी छोटी-छोटी समस्याओं को प्राथमिकता पर सुलझाएं। उन्होंने कहा कि लोगों को अपनी समस्याओं का निपटारा करने के लिए बार-बार सरकारी कार्यालयों के चक्कर न लगाने पड़ें। सभी वरिष्ठ अधिकारी अपने अधीनस्थ अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ नियमित रूप से बैठकें करें तथा उनसे जनसमस्याओं के संबंध में फीडबैक लें।वीरेंद्र कंवर ने कहा कि सरकार के पास धन की कोई कमी नहीं है, अगर कहीं भी लोगों की समस्या को दूर करने के लिए धन की आवश्यकता है तो मामला उनके ध्यान में लाया जाए। इस संबंध में वह बहुउ्द्देशीय परियोजनाएं एवं ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी के साथ बात करेंगे। उन्होंने कहा कि 15 दिन के बाद वह दोबारा विभाग के साथ समीक्षा बैठक करेंगे।बैठक में डीसी ऊना राघव शर्मा, अधीक्षण अभियंता अनिल कुमार सहगल, अधिशाषी अभियंता खुशविंदर सिंह, धीरज धीमान सहित एसडीओ व जेई उपस्थित रहे।

कोरोना संक्रमितों की कॉटेंक्ट ट्रेसिंग पर विशेष ध्यान दिया जाएः वीरेंद्र कंवरग्रामीण विकास मंत्री ने जिला ऊना में कोरोना की स्थिति पर समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की ऊना (8 दिसंबर)- ग्रामीण विकास, पंचायती राज, कृषि, मत्स्य तथा पशु पालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने आज कोरोना की स्थिति तथा हिम सुरक्षा अभियान पर समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। इस दौरान उन्होंने कोरोना की रोकथाम के लिए किए जा रहे उपायों पर संतोष व्यक्त किया तथा कहा कि कोरोना संक्रमितों की कॉटेंक्ट ट्रेसिंग पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। उन्होंने कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए सभी व्यक्तियों के प्राथमिकता पर टेस्ट करने के निर्देश दिए।ग्रामीण विकास मंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमित होने पर होम आइसोलेशन में रहकर इलाज को प्राथमिकता दी जाए, साथ ही इस व्यवस्था को भी सुदृढ़ किया जाए। होम आइसोलेशन में स्वास्थ्य लाभ ले रहे मरीज सभी नियमों का सख्ती के साथ पालन करें, ताकि बाकी परिवार संक्रमण की चपेट में आने से बच सके। उन्होंने कहा कि सिर्फ गंभीर बीमारियों से ग्रस्त व्यक्तियों के कोरोना संक्रमित होने पर उन्हें अस्पताल में शिफ्ट किया जा रहा है। इसके अलावा कोरोना संक्रमित अगर अपने परिवार के साथ बातचीत करना चाहते हैं तो उनके लिए इंटरकॉम या अलग फोन की व्यवस्था हो तथा उसका समय निर्धारित किए जाए। वीरेंद्र कंवर ने कहा कि क्षेत्रीय अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का प्रस्ताव सरकार को भेजा जाए। 27 प्रतिशत आबादी की हुई स्क्रीनिंगग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि कोरोना सहित अन्य बीमारियों के लक्षण वाले व्यक्तियों की पहचान के लिए प्रदेश सरकार ने हिम सुरक्षा अभियान चलाया है, जिसके तहत घर-घर जाकर सर्वे किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस अभियान में तेजी लाई जाए। कंवर ने बताया कि अभी तक इस अभियान के तहत जिला ऊना की 27 प्रतिशत आबादी की स्क्रीनिंग की गई है। साथ ही उन्होंने जन जागरूकता लाने के निर्देश भी दिए।जिला में अब तक हुए 48,660 कोरोना टेस्टवीरेंद्र कंवर ने कहा कि जिला ऊना में अब तक 48,660 कोरोना टेस्ट किए गए हैं, जिसमें से 2309 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव आए हैं, जिनमें से 2051 मरीज स्वस्थ हुए हैं। उन्होंने कहा कि 232 एक्टिव केसों में से 165 मरीजों का इलाज होम आइसोलेशन में चल रहा है। अब तक कुल 26 व्यक्तियों की मौत कोरोना के कारण हुई है। सीएचसी धुसाड़ा में 20 बैड का बनेगा कोविड सेंटरउपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने कहा कि जिला ऊना में कोरोना संक्रमितों के लिए पर्याप्त व्यवस्थाएं है तथा इन्हें बढ़ाया भी जा रहा है। डेडिकेटिड कोविड हेल्थ सेंटर (डीसीएचसी) हरोली में 30 बैड की क्षमता है और इसमें 5 अतिरिक्त बैड की व्यवस्था की जा सकती है। इसके अतिरिक्त सीएचसी धुसाड़ा में 20 बैड की व्यवस्था कर इसे कभी डीसीएचसी में तबदील किया जा सकता है। साथ ही पालकवाह में 40 बैड का मेक शिफ्ट (अस्थाई) कोरोना अस्पताल बनाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है तथा इसके लिए प्रदेश सरकार से 50 लाख रुपए प्राप्त हुए हैं। डीसीसी खड्ड में 70 बैड की व्यवस्था है।बैठक में एसपी अर्जित सेन ठाकुर, सीएमओ डॉ. रमण कुमार शर्मा, जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. अजय अत्री, सभी एसडीएम, बीडीओ तथा अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।