May 12, 2021

आगामी आदेशों तक सरकारी कार्यालयों में प्रत्यक्ष सार्वजनिक कार्य बंद

आगामी आदेशों तक सरकारी कार्यालयों में प्रत्यक्ष सार्वजनिक कार्य बंद
ऊना (30 अप्रैल)- जिला ऊना के सरकारी कार्यालयों में प्रत्यक्ष सार्वजनिक कार्यों को आगामी आदेशों तक स्थगित करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं। यह जानकारी देते हुए उपायुक्त, ऊना राघव शर्मा ने बताया कि इन सेवाओं पर 1 मई तक रोक लगाई गई थी, लेकिन अब इन सभी सेवाओं को आगामी आदेशों तक स्थगित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि ऐसी सेवाएं जिनके लिए डिजिटल या इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से आवेदन किया जा सकता है, वहां कार्यालयों के माध्यम से सेवाएं पूर्णत: स्थगित रहेंगी। जिला के नागरिक इन सेवाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं तथा कार्यालय द्वारा नियमानुसार कार्य निष्पादित किया जाएगा।
डीसी राघव शर्मा ने बताया कि आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 33 व 34 में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए शिक्षा विभाग के स्टाफ विशेष तौर पर अध्यापकों को कोविड-19 से संबंधित डियूटी के लिए प्रयोग करने के भी आदेश जारी किए गए हैं। उन्होंने बताया कि संबंधित उपमंडल अधिकारी (एसडीएम) द्वारा कोविड-19 वैक्सीनेशन व होम आइसोलेशन की निगरानी के लिए स्कूली स्टाफ व अध्यापकों की सेवाएं ली जा सकती हैं। ऐसे में अध्यापक व स्टाफ एसडीएम के नियंत्रण व निर्देशों के अधीन होंगे।
एक हफ्ते में अतिरिक्त 250 बैड लगाने की तैयारी, सामान्य सुविधा केंद्र पंडोगा बनेगा कोविड केंद्र
जिला ऊना में ऑक्सीजन व सिलेंडरों की कमी नहीं, पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध
ऊना (30 अप्रैल)- कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिला ऊना में कोरोना मरीजों के लिए अतिरिक्त 250 बैड क्षमता एक सप्ताह के भीतर तैयार की जाएगी। यह बात उपायुक्त राघव शर्मा ने आज एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। उन्होंने कहा कि पंडोगा स्थित सामान्य सुविधा केंद्र में 200 बैड का डेडिकेटिड कोविड हेल्थ सेंटर (डीसीएचसी) शीघ्र तैयार किया जाएगा, जहां पर मरीजों के लिए ऑक्सीजन की भी सुविधा होगी।
डीसी ने तैयारियां पूरी करने के लिए अधीक्षण अभियंता लोक निर्माण विभाग की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित की है। जिसमें महाप्रबंधक जिला उद्योग केंद्र, सीएमओ, अधिशाषी अभियंता एचपीएसआईडीसी, जल शक्ति विभाग, पीडब्ल्यूडी मकेनिकल, विद्युत विभाग तथा क्रेडिट प्लानिंग ऑफिसर को शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि कमेटी सभी तैयारियां युद्ध स्तर पर शुरू करे, जिसकी प्रतिदिन रिपोर्ट एडीसी डॉ. अमित कुमार शर्मा को भेजें। कमेटी एक सप्ताह के बाद अपनी अंतिम रिपोर्ट उपायुक्त ऊना राघव शर्मा को सौंपेगी।
राघव शर्मा ने कहा कि एक हफ्ते के भीतर जिला में कोविड मरीजों के लिए अतिरिक्त 250 बैड क्षमता तैयार की जाएगी। उन्होंने कहा कि 200 बैड पंडोगा में तथा 35 बैड पालकवाह तथा 20 बैड सीएचसी धुसाड़ा में लगाने की व्यवस्था होगी। उन्होंने सामान्य सुविधा केंद्र पंडोगा के भवन को जल्द से जल्द कोविड केंद्र के रूप में तैयार करने के निर्देश दिए।
जिलाधीश ने कहा कि जिला ऊना में पर्याप्त मात्रा में बैड उपलब्ध हैं। हरोली में 45 बैड तथा पालकवाह में 51 बैड की सुविधा उपलब्ध है। अन्य जिलों से कोरोना मरीजों के ऊना शिफ्ट होने के बावजूद अभी भी 39 बैड खाली हैं। लेकिन कोरोना के संक्रमण को देखते हुए तथा भविष्य की चुनौतियों की मद्देनजर अतिरिक्त 250 बैड कोरोना संक्रमितों के लिए तैयार किए जा रहे है। उन्होंने कहा कि अधिकारी प्राथमिकता के आधार पर इस कार्य को पूर्ण करने के लिए जुटें।
पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन व सिलेंडर
राघव शर्मा ने कहा कि कोविड मरीजों के लिए जिला ऊना में ऑक्सीजन व सिलेंडर की कोई कमी नहीं है तथा स्टॉक पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि पालकवाह व हरोली में स्वास्थ्य विभाग के पास 92 सिलेंडर हैं, जबकि क्षेत्रीय अस्पताल में 43 ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध हैं। इसके अतिरिक्त 50 सिलेंडर जेके गैस कंपनी गगरेट के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग को मिले हैं तथा 25 सिलेंडर प्रदेश सरकार ने उपलब्ध करवाए हैं। उन्होंने कहा कि गगरेट स्थित उद्योग ने जिला प्रशासन को प्रतिदिन 200 ऑक्सीजन सिलेंडर भरने की आश्वासन दिया है जबकि जिला में अभी भी मांग 50 ऑक्सीजन सिलेंडर प्रतिदिन ही है। उन्होंने कहा कि जिला ऊना में दो-तीन दिन के भीतर सिलेंडर वेयरहाउस तैयार कर लिया जाएगा तथा इसमें 600 ऑक्सीजन सिलेंडर की उपलब्धता होगी।

बैठक में एडीसी डॉ. अमित कुमार शर्मा, सीएमओ डॉ. रमण कुमार, शर्मा, डॉ. निखिल शर्मा, एसडीएम गौरव चौधरी, अधिशाषी अभियंता जल शक्ति विभाग नरेश धीमान सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।