वर्ल्ड यूनियन आफ होलसेल मार्केट्स (व्योम) हरियाणा को अपना बेस बनाकर चले – मनोहर लाल

Haryana
By Admin

चण्डीगढ़, 13 अक्टूबर – हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि वर्ल्ड यूनियन आफ होलसेल मार्केट्स (व्योम) हरियाणा को अपना बेस बनाकर चले, राज्य सरकार से उन्हें ढांचागत व आधारभूत सुविधाओं के साथ पूरा सहयोग दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री गत सायं गुरूग्राम में आयोजित 32वीं वर्ल्ड यूनियन आफ होलसेल मार्केट्स कांफ्रेंस के समापन अवसर पर विश्व भर से पहुंचे प्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे। इस समारोह में केन्द्रीय विदेश राज्य मंत्री जरनल वी के सिंह भी पहुंचे थे।

हरियाणा को मार्किटिंग के लिए बेहतर स्थान बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा राष्टीय राजधानी दिल्ली को तीनों ओर से घेरे हुए है और अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा भी नजदीक है। यहां अंतरराष्ट्रीय होलसेल की अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने बताया कि सरकार गन्नौर जिला सोनीपत में 545 एकड़ में बडी मंडी विकसित कर रही है जो संभवत: एशिया की फल एवं सब्जियों की सबसे बडी मंडी होगी।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को उनके उत्पादन का पर्याप्त मूल्य मिले, इसके लिए सरकार चिंतित है, इसी दूरदर्शिता के साथ प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य रखा है और इसके लिए फार्मूला दिया है। किसानों को लाभकारी मूल्य देने के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य फसल लागत के 50 प्रतिशत लाभ के फार्मूले के साथ घोषित किया गया है। उन्होंने कहा कि किसानों की आय किस तरह से सुनिश्चित हो, यह एक बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि किसान की सुनिश्चित आय हो, इसमें कई तरह के व्यावधान आते हैं जिसमें विपणन प्रणाली की चुनौतियां भी मुख्य हैं। इस दिशा में बेहतर प्रयास के तौर पर प्रदेश कृषि विपणन की परंपरागत प्रणाली से नई ई-मार्केट प्रणाली की तरफ बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसी प्रणाली विकसित करने की जरूरत है जिसमें परंपरागत सिस्टम, जो आढ़ती सिस्टम से जुड़ा है, उसे भी ई मार्केट प्रणाली में समायोजित किया जाए ताकि उनका रोजगार भी बना रहे और किसान को भी सुनिश्चित आय मिले।

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानी में किसानों का रिस्क खत्म हो, इसके लिए प्रदेश सरकार गंभीर है। भावांतर भरपाई योजना का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की सुनिश्चित आय की दिशा में यह योजना मील का पत्थर साबित हो रही है। योजना  शुरूआत में आलू, गोभी, प्याज व टमाटर की फसल पर लागू की गई। किसानों को मिली राहत के बाद अब बाजरे को भी इस योजना में शामिल किया गया है। 1950 रूपए प्रति म्ंिटल की दर से बाजरा मंडियों में खरीदा जा रहा है। मार्केट रेट और निर्धारित रेट के अंतर की भरपाई योजना के तहत की गई है।

उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की कि दो दिवसीय वर्ल्ड यूनियन आफ होलसेल मार्केट्स कांफ्रेंस की मेजबानी हरियाणा प्रदेश को मिली। इस आयोजन से मंडियों की बेहतरी के साथ-साथ किसानों की फसल की गुणवत्ता एवं बिक्री को उचित प्लेटफार्म भी मिलेगा।

        कांफ्रेंस में केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री जनरल (सेवानिवृत)वी.के.सिंह ने इस आयोजन पर खुशी जताते हुए कहा कि यह कांफ्रेंस फसल उत्पादक किसानों, विक्रेताओं तथा उपभोक्ताओं के हित में बेहतर पहल है। व्योम विश्व के 40 देशो मे अपनी पहुंच बना चुका है और कांफ्रेंस के माध्यम से इस बात का मंथन हुआ है कि होलसेल मार्केट में ये देश  किस तरह से एक दूसरे की सहायता करें। उन्होंने कहा कि हरियाणा प्रदेश हरित क्रांति का वाहक बना है और आज देश का दूसरा सबसे बड़ा अनाज उत्पादक राज्य है। उन्होंने कहा कि होलसेल मार्केट लिंक होगा तो हरियाणा का होलसेल मार्केट में बड़ा योगदान होगा। उन्होंने कहा कि कांफ्रेंस के माध्यम से अनेक सुझाव सांझे हुए हैं जो किसानों की खुशहाली के लिए अहम है।

        हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि वर्ल्ड यूनियन आफ होलसेल मार्केट्स कांफ्रेंस के आयोजन का मुख्य उद्देश्य यह रहा है कि विश्व भर की मंडियां किस तरह से बेहतरी की ओर अग्रसर हों। उन्होंने कहा कि कांफ्रेंस का बड़ा लाभ यह हुआ है कि वयोम ने इस बात पर एक राय जाहिर की है कि एशिया की मंडियों की बेहतरी के लिए ध्यान केंद्रीत किया जाए। उन्होंने इसके लिए वयोम का धन्यवाद करते हुए कहा कि इससे भारत की मंडियां भी बेहतर होंगी। उन्होंने कहा कि यूरोप की मंडियां तकनीक व अन्य सुविधाओं से बेहतर स्तर पर पहुंच चुकी हैं। भारतीय मंडियों को बेहतर करने में जो चुनौतियां हैं उन पर भी विस्तृत चर्चा हुई है तथा सुझावों का आदान प्रदान भी हुआ है। उन्होंने कहा कि 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया है। ऐसे में इस लक्ष्स की प्राप्ति के लिए किसान और किसानी की बेहतरी के लिए हर कदम उठाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसान और उपभोक्ता को सीधे तौर पर लाभांवित करने में वयोम की अहम भूमिका है और मैंने स्वयं इस बात का अनुभव किया है कि कई देशों की मंडियों में जीरो वेस्टेज के साथ किसानों को अपना उत्पादन सीधा उपभोक्ताओं को बेचने के लिए प्लेटफार्म उपलब्ध कराए गए हैं जोकि किसानों की आय बढ़ाने में मददगार है। उन्होंने कहा कि हम इस बात पर भी आगे बढ़ रहे हैं कि प्रदेश में एशिया की सबसे बड़ी मंडी गन्नौर, सेब मार्केट, फूल मंडी के साथ ही मसाला मार्केट विकसित हो।

        इस मौके पर लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह, सोहना के विधायक तेजपाल तंवर, हरियाणा हाऊसिंग बोर्ड के चेयरमैन जवाहर यादव, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार अमित आर्य, किसान आयोग के चेयरमैन डा. रमेश यादव,ख्भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष समय सिंह भाटी, भाजपा जिला अध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह चौहान, व्योम के चेयरमैन जेंगजुन मा, वाइस चेयरमैन स्टिफन लयानी, कृषि विभाग की एसीएस नवराज संधु, कृषि विभाग के निदेशक डी.के.बेहेरा, मुख्य प्रशासक हरदीप सिंह, उपायुक्त विनय प्रताप सिंह सहित अन्य अधिकारीगण मौजूद रहे।

Leave a Reply