पंजाब सरकार ने ए डी सी गुरदासपुर रमन कुमार कोचर को किया रिवर्ट

Punjab
By Admin

सीनियर सहायक के पद पर किया जाएगा नियुक्त ,
बिना बी ए पास को ही अकाली सरकार ने लगा दिया था पी सी एस : अफसरों पर भी होगी करवाई
पंजाब सरकार ने बिना बी ऐ पास ए डी सी रमन कुमार कोच्चर को पी सी एस से रिवर्ट करने की आदेश दे दिया है
मुख़्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस अधिकारी को रिवर्ट करने को लेकर फाइल क्लियर कर दी है और नयमो को ताक पर रख कर इस को पी सी एस लगाने वाले अधिकारियो के खिलाफ कारवाई करने का फैसला किया है बिना बी ए पास रमन कुमार कोच्चर लम्बे समय तक पूर्व मंत्री आदेश प्रताप के मंत्री स्टाफ में रहे हैं और ताज्जुब की बात यह है की बिना बी ए पास किए सीधे ऍम ए कर ली हल्का के एल आर ने इसे गलत करार दिया लेकिन इस के बावजूद पिछली सरकार ने एल आर की सलाह को दर किनार कर पी सी एस बिना ट्रेनिंग के ही लगा दिया
एहम बात है की यू जी सी ने पंजाब सरकार के पत्र के जवाब में लिखा के कोई भी बिना बी ए के ऍम ए नहीं कर सकता लेकिंन पंजाब में पहला मामला हुआ है किसी कर्मचारी ने 12 कक्षा के बाद ऍम ए कर ली और पी सी एस भी लग गया और उस समय के पर्सोनल विभाग के अधिकारियों ने सब कुछ जानते हुए भी इस कर्मचारी को पी सी एस लगा दिया और दोहरे मापदंड अपना लिए
एक तरफ 192 क्लर्क की नियुक्ती इस लिए रद्द कर दी क्योंकि उन्होंने ने बाहर की यूनिवर्स्टी से डिग्री हासिल की है वही मुन्नाभाई पी सी एस को बिना बी ए और बाहर की यूनिवर्स्टी से बिना बी ए ऍम करने के बावजूद पी सी एस लगा दिया
पंजाब में में नौकरी के नाम पर सियासीकरण इतना भारी हो चूका है की एक तरफ नोजवानो को नौकरी के लिए धके खाने पड़ रहे है , जो सियासी करण अकाली भाजपा सरकार के समय शुरू हुआ जब एक पावरफुल मंत्री के साथ लगे एक कर्मचारी को बिना बी ए के डिग्री के बिना पी सी एस लगा दिए और अपना हक़ लेने की लिए सियासी आकाओ के आगे एक महिला हार गयी इस कर्मचारी के बाद मेरिट में इस महिला का नाम था जब इंसाफ नहीं मिला तो इस बार फिर यह महिला पी एस बनने की लिए दिन रात मेहनत कर रही है जबकि एल आर ने अपनी राय में कहा की बिना बी ए पास कोई भी पी सी एस नहीं लग सकता इस के बावजूद इसे पी सी एस लगा दिया गया और इस की पहली पोस्टिंग भी उस समय के पावरफुल मंत्री के जिले में कर दी गयी हैरानी की बात है की एल आर की राय को दरकिनार कर अकाली सरकार ने इसे पी सी एस लगा दिया और तो अफसरशाही ने सियासी दबाब में बिना बी ए के एम ए पास करने वाले कर्मचारी को पी सी एस तो लगा दिया लेकिन चुनाव अचार सहिता लगने वाली थी अपने आप को सही साबित करने की लिए पर्सनल विभाग के अधिकारियों ने उस समय के मुख्य सचिव की अगवाई में मीटिंग कर 6 अक्टूबर 2016 को इस मामले में विचार किया गया
नोटिंग में कहा की इस कर्मचारी के बारे में जनरल अडमिंस्ट्रेशन ने लिखा है पी पी एस सी को मेरिट के आधार पर केस नहीं भेजा गया है जिस में विभाग ने कहा के अगर कुछ गलत हुआ है तो इस को ठीक कीया जाना चाहिए

सब से मजेदार बात यह है के यू जी सी को पंजाब सरकार ने बिना बी ए पास करे एम ए करने वाले कर्मचारी के वारे में पत्र लिख कर डिग्री के बारे में पुछा की यह डिग्री वैलिड है तो यू जी सी ने पंजाब सरकार को लिखा के मास्टर डिग्री बिना बेसिक फर्स्ट डिग्री को योग नहीं माना जा सकता और ना ही यह ग्रेजुएशन की डिग्री के बराबर है यू जी सी ने अक्टूबर 2016 में पंजाब सरकार को लिख दीआ था लेकिन यू जी सी के सलाह को नजर अंदाज कर पर्सनल विभाग ने पहली पोस्टिंग 9 नवंबर 2016 को असिस्टेंट कमिश्नर जनरल तरनतारन कर दी देश में यह पहला मामला होगा जहा एक कर्मचारी बिना बी ए ही पी सी एस बन गया है
अकाली सरकार के समय आदेश प्रताप सिंह कैरो के मंत्री स्टाफ में लगे रमन कुमार कोछड़ ने पी सी एस के लिए नॉमिनेशन भरा जब के इस ने बी ए नहीं कर रखी थी हल्का के उस समय जनरल अडमिंस्ट्रेशन के ब्रांच ने इस पर ऑब्जेक्शन लगा दी के इस ने बी ए पास नहीं की है लेकिन सियासी दवा के चलते पी पी एस सी को जो फार्म भेजा गया उस में बी ए पास लिख दीआ गया जब पी पी एस से ने सर्टीफिकेट मांगे तो देखा के कोछड़ ने तो बी ए की ही नहीं उसने इस का रिजल्ट रोक लिए जिस के बाद सिलसला शुरू हुआ एल आर ने अपनी राय में कहा के यह पी सी एस नहीं लग सकता लेकिन सियासी दवा इतना था के इस को एडवोकेट को भेज दीआ किसी ना किसे तरीके से पी सी एस लगा दीआ

Leave a Reply