लाल सिंह ने दूलो को कांग्रेस और राज्य सभा की सदस्यता से एकतरफ़ होने के लिए कहा

Punjab REGIONAL
By Admin
दूलो की खुलेआम बग़ावत ने पार्टी के हितों को नुक्सान पहुँचाया
चंडीगढ़, 29 अप्रैल:
शमशेर सिंह दूलो की बग़ावत की रिपोर्टों के दौरान पंजाब कांग्रेस चुनाव मुहिम कमेटी के चेयरमैन लाल सिंह ने श्री दूलो को कांग्रेस और राज्य सभा मैंबर के तौर पर इस्तीफ़ा देने के लिए कहा है। लोक सभा चुनाव से पहले श्री दूलो की पत्नी और पुत्र आम आदमी पार्टी (आप) में शामिल हो गए हैं।
दूलो को कांग्रेस पार्टी पर धब्बा करार देते हुए लाल सिंह ने कहा कि उसके जाने से पार्टी को फ़ायदा होगा। उन्होंने कहा कि संसद मैंबर के लिए पार्टी में कोई जगह नहीं है जिसकी पत्नी और पुत्र आप में शामिल हो गए जबकि उसने खुद भी ऐलान किया है कि वह कांग्रेस के हक में प्रचार नहीं करेगा।
दूलो ने मीडिया में दिए बयान का हवाला दिया गया है जिसमें वह कह रहा है कि न तो उसे यह पता है कि फतेहगढ़ साहिब से कांग्रेसी उम्मीदवार कौन है और न ही वह उसके लिए प्रचार करेगा।
दूलो के स्टैंड को शर्मनाक और अत्याचारी कदम बताते हुए लाल सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने उसे बहुत कुछ दिया परन्तु वह घटिया सलूक कर रहा है। लाल सिंह ने कहा कि दूलो वर्ष 1992 और 1999 में बेअंत सिंह की सरकार के मंत्रीमंडल में मैंबर था और कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने उसे लोक सभा की टिकट दी जिससे उसने जीत हासिल की। उस समय पर उसे पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी का प्रधान बनाया परन्तु यह और बात है कि वह इसको सहज ही भुला बैठा है।
यहाँ तक पार्टी ने विधान सभा चुनाव के लिए उसकी पत्नी को वर्ष 2002, और फिर वर्ष 2007 और 2012 में टिकट दी। उसे संसदीय सचिव भी बनाया।
लाल सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी को वर्ष 2007 की विधान सभा चुनाव में भी दूलो के कारण हार का मुँह देखना पड़ा था, जिसने एक विशेष भाईचारे के खि़लाफ़ बुरा-भला कहा था जिसके कारण उसे अपनी खुद की हार के साथ-साथ पार्टी को हार सहनी पड़ी थी। इसके बावजूद उसे पार्टी ने राज्य सभा का मैंबर बनाया।
लाल सिंह ने कहा कि इन सभी बातों के बावजूद अब वह अपने पुत्र के लिए टिकट चाहता था और जब इसके लिए इन्कार किया तो उसने पार्टी के वफ़ादार सिपाही के तौर पर काम करने की बजाय पार्टी के विरुद्ध खुलेआम बग़ावत कर दी।
चयन कमेटी के चेयरमैन ने दूलो के रवैये पर गुस्सा ज़ाहिर करते हुए कहा कि संसद मैंबर पार्टी में रहने का हक गवां चुका है और वह पार्टी के साथ बुरा सलूक कर रहा रहा है। उन्होंने कहा कि एक तरफ़ पार्टी की तरफ से इन लोक सभा चुनावों में अपने उम्मीदवारों की जीत/हार के लिए मंत्रियों और विधायकों समेत सीनियर नेताओं की जवाबदेही तय की जा रही है तो दूसरी तरफ़ दूलो जैसे लोग हैं जो कांग्रेसी उम्मीदवारों के यत्नों और हितों को नुक्सान पहुँचाने के यत्नों में लगे हुए हैं।
लाल सिंह ने माँग की कि दूलो को राजनैतिक जीवन के लिए रास्ता दिखाने वाली पार्टी के विरुद्ध भुगतने की बजाय तुरंत एकतरफ़ हो जाना चाहिए।
————

Leave a Reply