अनुसूचित जाति उप योजना के तहत जिले में 80 करोड़ रुपये की राशि होगी व्यय -विधानसभा उपाध्यक्ष

किसानों को उपलब्ध करवाए जाने वाले बीजों के मामले में प्रगतिशील किसानों से समन्वय स्थापित करें विभाग

पशुपालकों  को पेश आ रही चारे की समस्या का होगा  समाधान

चंबा, 16 अक्टूबर

विधानसभा उपाध्यक्ष हंसराज ने कहा कि चालू वित्त वर्ष के दौरान अनुसूचित जाति उप योजना के तहत जिले में 79 करोड़ 3 लाख 87 हजार रुपयों की राशि राज्य योजना के अंतर्गत अनुसूचित जाति  समुदाय से  संबंधित आधारभूत विकास और कल्याण योजनाओं के कार्यान्वयन पर खर्च  की जा रही है ।

विधानसभा उपाध्यक्ष आज  बचत  भवन चंबा में आयोजित  अनुसूचित जाति कल्याण समिति  बैठक की अध्यक्षता  करते हुए बोल रहे थे ।  उन्होंने यह भी कहा कि केंद्रीय प्रायोजित योजनाओं के अंतर्गत एक करोड़ 47 लाख रुपये की राशि का बजट प्रावधान  किया गया है ।

विधानसभा उपाध्यक्ष ने बैठक के दौरान कृषि विभाग  के माध्यम से कार्यान्वित की जा रही योजनाओं की  समीक्षा करते हुए  कहा कि जिले में किसानों को विभिन्न फसलों के उपलब्ध करवाए जाने वाले बीजों की किस्म और ब्रांड के निर्धारण में स्थानीय प्रगतिशील  किसानों  के साथ समन्वय अवश्य स्थापित किया जाए । उन्होंने विभाग द्वारा उपलब्ध करवाए  जा रहे    बीजों पर  सब्सिडी की दर  को बढ़ाने के मामले को उपायुक्त को भेजने के भी निर्देश जारी किए ।

हंसराज ने अतिरिक्त उपायुक्त को सूखे के कारण जिले में पशुपालकों के समक्ष उत्पन्न हुई चारे की समस्या के समाधान  को लेकर राजस्व और वन विभाग द्वारा किए जाने वाले आकलन की समीक्षा करने को  कहा ।  उन्होंने  पशुपालन विभाग के उपनिदेशक को  पखवाड़े के भीतर पंजाब से चारा लाने की एवज में गाड़ियों के किराए के संदर्भ में पशुपालकों को सब्सिडी उपलब्ध करवाने के लिए कार्य योजना बनाने के निर्देश  जारी किए ।

विधानसभा उपाध्यक्ष ने भू-संरक्षण अधिकारियों को जिले के महत्वपूर्ण स्थानों में भू-संरक्षण कार्यों के लिए मनरेगा कन्वर्जेंस के माध्यम से संबंधित  विधायकों के साथ विचार-विमर्श करके  डीपीआर बनाने  को कहा । उन्होंने मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना के तहत प्रगति की समीक्षा करते हुए किसानों में जागरूकता और जानकारी   बढ़ाने पर बल दिया । हंसराज ने जल शक्ति, उद्यान एवं कृषि विभाग को कलस्टर आधारित योजनाओं पर फोकस रखते हुए कन्वर्जेंस के माध्यम से कार्य योजना बनाने के  निर्देश दिए ।

उन्होंने वन विभाग को एक बूटा बेटी के नाम योजना के तहत समूचे जिले में विभिन्न गतिविधियां आयोजित करने को कहा ।

लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता ने बैठक में   अवगत किया कि जिले में उप योजना के तहत  विभिन्न सड़कों और पुलों का निर्माण कार्य प्रगति पर है । उन्होंने बताया कि उपमंडल चुराह में प्रस्तावित मिनी सचिवालय के भवन के निर्माण के  लिए विभागीय औपचारिकताएं पूर्ण की जा रही हैं ।

 विधानसभा उपाध्यक्ष ने पुलिस  थाना तीसा के भवन निर्माण के लिए भी संबंधित विभाग को  प्रक्रिया शुरू करने के निर्देश दिए  ।

इस दौरान उपायुक्त चंबा विवेक भाटिया ने बताया कि अनुसूचित जाति उपयोजना के सफल कार्यान्वयन के लिए  प्रदेश सरकार द्वारा निर्धारित नई गाइडलाइन के तहत  विकास योजनाओं  में  निर्धारित बजट बदलाव या अन्य मामलों में कारणों  सहित ब्यौरा देना आवश्यक होगा ।

उन्होंने विधानसभा उपाध्यक्ष को आश्वस्त करते हुए कहा कि सभी विभागों द्वारा योजना के सफल कार्यान्वयन में निर्धारित समय सीमा के भीतर कार्य करना सुनिश्चित किया जाएगा ।

बैठक में जिला कल्याण अधिकारी नरेंद्र जरयाल  ने  उप योजना से संबंधित सभी विभागों द्वारा अर्जित उपलब्धियों का ब्यौरा रखा ।

बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त मुकेश रेप्सवाल, उप अरण्यपाल वन मंडल चंबा निशांत मंडोत्रा, अधीक्षण अभियंता लोक निर्माण विभाग डीएस पठानिया, अधीक्षण अभियंता जल शक्ति रोहित दुबे , एमएस मेडिकल कॉलेज डॉ मोहन सिंह सहित विभिन्न विभागों के जिला अधिकारी भी मौजूद रहे