ब्रह्माकुमारीज ने अनाथों, लावारिसों, मंदबुद्वि व अंगहीनों में राखी पर जगाई आशा की नई किरण

Punjab
By Admin

ब्रह्माकुमारीज़ मोहाली ने पैरापलाजिक, पिंगलवाड़ा, गुरू आसरा ट्रस्ट व प्रभ आसरा में बांध्ी राखी

मोहाली, 14 अगस्त(MS): ब्रह्माकुमारीज सुख शांति भवन फेज़ 7 की ओर से रक्षा-बंध्न पर्व पर चल रहे 15 दिवसीय राखी अभियान के अंतर्गत आज 14वें दिन ब्रह्माकुमारी बहनें विभिन्न गु्रपों में समाज के उपेक्षित लावारिस, अंगहीन, मंदबुद्वि व मानसिक व शारीरिक अक्षम नागरिकों के निवास स्थानों पर पहुंची तथा उनके जीवन में राखी के पर्व पर आशा की नई किरण जागृत की । उन्होंने राखी पर्व के आध्यात्मिक रहस्यों से अवगत कराते उन्हें राखी बांध्ी व ईश्वरीय प्रसाद तथा साहित्य भेंट किया ।

ब्रह्माकुमारी रणजीत बहन ने पैराप्लाजिक पुर्नवास केंद्र फेज 6 के 65 निवासियों व अध्किारियों को राखी का महत्व बताया और कहा कि  देश की रक्षा करते हुए अपने शरीर के अंग भी सेवा में उन्होंने अर्पित कर दिये । आपका बहुत बड़ा भाग्य बना है क्यांेकि आपने अन्य आत्माओं  की सेवा की है ।  इसलिए परमात्मा पिता की ओर से आपके जीवन में  शांति, प्रेम, आनंद व खुशी का संचार करने  की दुवाएं लेकर हम बहनें आपके पास ये आई हैं ।  बी.के.रणजीत बहन ने उन्हें उनकी वील चेयरों पर ही राखी बांध्ी, आत्मिक स्मृति का तिलक लगाया और ईश्वरीय साहित्य भी भेंट किया  ।

झंजेड़ी के प्रभ आसरा के 61 अपाहिज, बेसहारा अनाथों को ब्रह्माकुमारी मीना बहन ने राखी पर्व का महत्व बता कर उत्हें राखी बांध्ी तथा उनसे प्रतिज्ञा करवाई कि वे अब किसी से मनमुटाव व क्रोध् नहीं करेंगे । ब्रह्माकुमारी अदिति बहन ने उन्हें अपने जीवन को आशा, उमंग व उत्साह के साथ जीने की प्रेरणाएं दी ।

ब्रह्माकुमारी अमन बहन ने पलसौरा स्थित पिंगलवाड़ा मंे भी 63 पिंगले;मानसिक व शारीरिक अक्षमद्धलोगों को भी  राखी का महत्व बता कर उन्हें राखी बंाध्ी ।

एक अन्य ग्रुप में ब्रह्माकुमारी  अमन बहन  ने पलसौरा स्थित गुरू आसरा ट्रस्ट में रह रहे 7 से 17 वर्ष के 25 लावारिस बच्चों  व स्टाफ को राखी का असल महत्व स्पष्ट करते रक्षा सूत्रा बांध्े ।

Leave a Reply