दिल्ली से 271 हिमाचलियों को लेकर एक विशेष रेलगाड़ी ऊना के लिए रवाना

Himachal Pradesh
By Admin

हिमाचल भवन दिल्ली के उप आवासीय आयुक्त विवेक महाजन ने बताया कि हिमाचल प्रदेश  सरकार ने दिल्ली में फंसे 271 हिमाचलियों को लेकर एक विशेष रेलगाड़ी गत सायं हिमाचल प्रदेश के जिला ऊना के लिए रवाना की गई।

उन्होंने कहा कि आवासीय आयुक्त कार्यालय द्वारा सूचना एवं जन सम्पर्क सचिव रजनीश के निर्देशानुसार विस्तृत व्यवस्था की गई थी, जो दिल्ली राज्य के नोडल अधिकारी भी हैं।

उन्होंने कहा कि फंसे हुए हिमाचलियों को उनके घरों में भेजने के लिए दिल्ली सरकार के साथ समन्वय स्थापित किया गया। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार के निर्देश पर, नोडल अधिकारी रजनीश ने रेल मंत्रालय और दिल्ली सरकार के साथ इस मामले को उठाकर रेलगाड़ी में सभी पंजीकृत यात्रियों की प्रदेश वापसी की योजना पर काम किया।

उन्होंने कहा कि आवासीय आयुक्त कार्यालय द्वारा सभी पंजीकृत व्यक्तियों को सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए रात 12 बजे से अंबेडकर स्टेडियम में रिपोर्ट करने के साथ-साथ यात्रियों की चिकित्सकीय जांच की गई और यात्रियों को यात्रा के दौरान दोपहर और रात के भोजन के लिए भोजन के पैकेट भी प्रदान किए गए। उन्होंने कहा कि अंबेडकर स्टेडियम के स्क्रीनिंग सेंटर से रेलवे स्टेशन पहुंचाने के लिए 15 बसों को भी तैनात किया गया हंै

मुख्यमंत्री ने दिए क्वारंटीन केन्द्रों में बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करवाने के निर्देश

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने संस्थागत क्वारंटीन केन्द्रों में बेहतर सुविधाएं सुनिश्चित करने पर बल दिया। वह आज यहां प्रदेश के सभी उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों और मुख्य चिकित्सा अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 के मामलों में बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों के कारण तीव्र बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 के अधिकतर मामले ऐसे लोगों के हैं, जिनका यात्रा ब्यौरा महाराष्ट्र और दिल्ली से आने का हैं। उन्होंने कहा कि देश के विभिन्न राज्यों में फंसे हिमाचलियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना प्रदेश सरकार की जिम्मेवारी है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में सैलून के संचालन के लिए मानक संचालन प्रक्रिया को अपनाना तथा इसका सख्ती से पालन सुनिश्चित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि रेड जोन से आने वाले सभी लोगों को संस्थागत क्वारंटीन किया जाए तथा कोविड-19 के परीक्षण में नेगेटिव आने के उपरांत ही होम क्वारंनटीन के लिए स्थानान्तरित किया जाए। उन्होंने कहा कि अन्य देशों से आने वाले हिमाचलियों के लिए भी यही प्रक्रिया अपनाने की आवश्कता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के अन्य भागों से आने वाले हिमाचलियों का पूरा डाटा भी संकलित किया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 पाॅजिटिव मरीजों की स्क्रीनिंग और मरीज कैसे संपर्क में आया है इसका पता लगाने पर ज्यादा ध्यान दिया जाए ताकि समय पर उनका उपचार किया जा सके और वायरस को फैलने से रोका जा सके। उन्होंने कहा कि सभी लोगों को कोरोना मुक्त ऐप डाउनलोड करने के लिए कहा जाए ताकि क्वारंटीन रखे गए लोगों की गतिविधियों की प्रभावी तरीके से निगरानी की जा सके।

जय राम ठाकुर ने कहा कि होम क्वारंटीन तंत्र को भी मजबूत और प्रभावी बनाया जाए ताकि होम क्वारंटीन में रखे लोग अलग-थलग रहें और वायरस के चक्र को तोड़ने में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि संस्थागत क्वारंटीन में लगे कर्मचारियों को भी सभी आवश्यक सुरक्षा उपकरण प्रदान किए जाने चाहिए ताकि वे बिना किसी डर के काम कर सकें।

मुख्य सचिव अनिल खाची, पुलिस महानिदेशक एस.आर. मरडी, अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आर.डी. धीमान, प्रधान सचिव जे.सी. शर्मा, ओंकार शर्मा, संजय कुंडू और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Leave a Reply