लोक निर्माण मंत्री द्वारा टोल प्लाजों पर ज़रूरी सहूलतें मुहैया करवाने के कड़े निर्देश

re
By Admin
– समय -समय पर अधिकारियों को टोल प्लाजों की चैकिंग करने की हिदायतें; लापरवाही करने वालों को बक्शा नहीं जायेगा – विजय इंद्र सिंगला
– कहा, विकास प्रोजैक्टों के बोर्ड लगाओ और जानकारी सोशल मीडिया पर भी साझा करो
चंडीगढ़, 1 मई:
 पंजाब के लोक निर्माण और आई.टी. मंत्री विजय इंद्र सिंगला ने राज्य के विभिन्न टोल प्लाजों पर ज़रूरी सहूलतें मुहैया करवाने के कड़े निर्देश जारी किये हैं। स्थानीय महात्मा गांधी राज्य लोक प्रशासन संस्था में लोक निर्माण विभाग के उच्च अधिकारियों की राज्य स्तरीय मीटिंग में श्री सिंगला ने कहा कि मंत्री का ओहदा संभालने के बाद उन्होंने स्वयं कुछ टोल प्लाज़े चैक किये हैं और वहाँ सहूलतों की भारी कमी देखने को मिली। उन्होंने अधिकारियों को हिदायत की कि समय -समय पर टोल प्लाज़ों की चैकिंग की जाये। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में लापरवाही करने वाले टोल प्लाजों और विभाग के अधिकारियों को किसी भी कीमत पर बक्शा नहीं जायेगा।
इस अवसर पर  सिंगला ने सुझाव दिया कि विभिन्न विकास प्रोजेक्टों की विस्तृत जानकारी बोर्ड लगाकर दी जाये और इसको सोशल मीडिया के विभिन्न मंचों के द्वारा भी साझा किया जाये। उन्होंने सडक़ों की समय पर मुरम्मत करने के दिशा -निर्देश भी जारी किये। श्री सिंगला ने एक बार फिर दोहराया कि भ्रष्टाचारियों और क्वालिटी के साथ समझौता करने वालों को माफ नहीं किया जायेगा। उन्होंने कहा कि क्वालिटी सुनिश्चित करने के लिए बहुत जल्द ही ज़रूरी मशीनरी भी मुहैया करवा दी जायेगी। इस मौके पर लोक निर्माण मंत्री ने विभाग के अधिकारियों का आवश्यक प्रशिक्षण करवाने पर भी ज़ोर दिया। उन्होंने स्थानीय ठेकेदारों को और ज्यादा मौके देने की बात भी कही।
 सिंगला ने कहा कि किसी भी विकास प्रोजैक्ट की निर्धारित समय सीमा का पूरा ध्यान रखा जाये और सुधार की गुंजाईश को भी सामने रखा जाये। उन्होंने विभाग के अधिकारियों को उत्साहित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की सोच के अनुसार पंजाब के सडक़ीय नैटवर्क को अव्वल दर्जे का बनाने के लिए सार्थक प्रयास किए जाएँ। सिंगला ने विभाग के संपूर्ण कार्य को कम्प्यूट्रीकृत करने पर भी ज़ोर दिया। इस मौके पर अधिकारियों से विभाग की कार्यकुशलता में और सुधार लाने के लिए सुझाव लिए गए और विभिन्न मसलों और समस्याओं संबंधी भी विचार-विमर्श किया गया। इस मौके पर लोक निर्माण विभाग के सचिव  हुस्न लाल और विशेष सचिव माधवी कटारिया भी उपस्थित थे।