बुद्ध राम ने खोली ढींडसा की पोल बोले, आज तक खड़े हैं अकाली-भाजपा सरकार के बकाए 

Punjab REGIONAL
By Admin


मुलाजिम मसलों पर बोलने का अकाली-भाजपा को कोई नैतिक हक नहीं – आप

चंडीगढ़, 11 फरवरी 2019 
आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब ने राज्य के सरकारी कर्मचारियों के महंगाई भत्ते (डी.ए) 6ठे वेतन कमीशन और कच्चे मुलाजिमों को पक्का करने के लिए अकाली दल बादल की तरफ से संघर्ष शुरू करने के ऐलान को चुनाव से पहले सब्जबाग दिखा कर एक बार फिर से धोखा करने की कोशिश है।
‘आप’ मुख्य दफ्तर द्वारा जारी ब्यान में पार्टी की कोर कमेटी के चेयरमैन और विधायक प्रिंसिपल बुद्धराम ने कहा कि लगातार 10 साल पंजाब की सत्ता का आनंद लेने वाली अकाली दल बादल को आज मुलाजिमों और कच्चे मुलाजिमों की याद कैसे आ गई? प्रिंसिपल बुद्धराम ने कहा कि अकाली दल बादल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल और तत्कालीन वित्त मंत्री परमिन्दर सिंह ढींडसा समेत अकाली-भाजपा के किसी भी नेता के पास मुलाजिमों, कच्चे-ठेका पर भर्ती मुलाजिमों समेत बेरोगारों के बारे में कुछ भी कहने का नैतिक हक नहीं है। जो कुछ बादलों का 10 सालों के राज के दौरान मुलाजिमों, कच्चे मुलाजिमों, अध्यापकों और योग्यता के आधार पर रोजगार मांग रहे बेरोजगारों के साथ हुआ है, उस जबर-जुल्म को न यह सडकों पर संघर्ष कर रहे मुलाजिम, पैंशनर और बेरोजगार भूले हैं और न ही पंजाब के लोग भूले हैं।
प्रिंसिपल बुद्धराम ने परमिन्दर सिंह ढींडसा द्वारा कर्मचारियों की लड़ाई लडऩे के ऐलान को धोखा बताते हुए कहा कि जब ढींडसा खुद वित्त मंत्री थे तब उन्होंने कर्मचारियों की सुध क्यूं नहीं ली। उनके समय कि बकाए आज तक खड़े हैं। प्रिंसिपल बुद्धराम ने ढींडसा की पोल खोलते हुए बताया कि 1 जुलाई 2015 से लेकर 31 दिसंबर 2016 तक डी.ए का 19 प्रतिश्त बकाया अकाली -भाजपा सरकार के समय का बकाया है, जब परमिन्दर सिंह ढींडसा खुद वित्त मंत्री थे और यह 19 प्रतिश्त बकाया भी अरबों रुपए में बनता है।
प्रिंसिपल बुद्धराम ने बादलों और ढींडसा को पूछा कि 27 दिसंबर 2016 को आपकी अकाली-भाजपा सरकार ने कच्चे मुलाजिमों को पक्के करने के लिए जो ‘ दी पंजाब एडहाक’ कंट्रैक्ट, डेलीवेज, टैम्परेरी वर्क चार्जड और आउट सोर्स इंप्लाईज़ वैलफेयर बिल 2016 बनाया था उसे अपनी सरकार दौरान ही लागू क्यों नहीं किया?
प्रिंसिपल बुद्धराम ने परमिन्दर सिंह ढींडसा को 6ठे वेतन कमीशन पर घेरते कहा कि आपकी सरकार ने पहले वेतन कमीशन को समय सिर नहीं बिठाया और फिर आर.एस मान कमीशन गठित कर उससे समय सिर रिपोर्ट क्यों नहीं ली , जो बिना कुछ किए ही सरकारी खजाने को लूट कर चलता बना।
प्रिंसिपल बुद्धराम ने कहा कि कर्मचारियों का कुल बकाया लगभग 4000 करोड़ तक पहुंच गई हैं और आम आदमी पार्टी यह मुद्दा आगामी विधान सभा सैशन में जोर-शोर के साथ उठाएगी।

Leave a Reply