पंजाब सरकार द्वारा नवरात्रों के मौके पर रिहायशी प्लॉट की दो स्कीमें शुरू की जाएंगी: तृप्त बाजवा

Punjab
By Admin
बटाला और बठिंडा में शुरू की जाएंगी स्कीमें
सीनियर सिटिजन और अन्यों को दी जायेगी पहल
 चण्डीगढ़, 8 अक्तूबर –
      शहरी विकास एवं भवन निर्माण मंत्री स. तृप्त रजिन्दर सिंह बाजवा ने जानकारी देते हुए बताया कि पंजाब सरकार राज्य के निवासियों की रिहायशी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए अथक प्रयास कर रही है और शहरी विकास एवं भवन निर्माण विभाग द्वारा राज्य के विभिन्न शहरों में नयी रिहायशी स्कीमों की शुरुआत की जा रही है।
उन्होंने बताया कि नवरात्रों के शुभ अवसर पर अमृतसर डिवैल्पमैंट अथॉरिटी द्वारा बटाला शहर में नई अर्बन एस्टेट की शुरुआत की जा रही है। इस मौके पर राज्य सरकार के शहरी विकास एवं भवन निर्माण विभाग ने बटाला की न्यू अर्बन एस्टेट के 140 रिहायशी प्लॉटों के लिए अजिऱ्यों की माँग की है। इस स्कीम में अलॉटमैंट कीमत 9990 रुपए प्रति गज़ रखी गई है। यह स्कीम 10 अक्तूबर 2018 से शुरू होगी जो कि 9 नवंबर 2018 तक चलेगी। इसी तरह बठिंडा में 74 रिहायशी प्लाटों की अलॉटमैंट की जा रही है। उन्होंने बताया कि पंजाब सरकार ने फ़ैसला किया है कि इन दोनों स्कीमों में सीनियर सिटिजन और अन्य आवेदकोंं को पहल दी जायेगी।
      शहरी विकास एवं भवन निर्माण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विन्नी महाजन ने बताया कि रिहायशी प्लॉटों के ड्रॉ 11 दिसंबर 2018 को निकाले जाएंगे। उन्होंने बताया कि आवेदक को अजऱ्ी के साथ प्लाट की कीमत की 10 प्रतिशत रकम अजऱ्ी के साथ जमा करवानी होगी। उन्होंने बताया कि अगली 15 प्रतिशत की किश्त एल.ओ.आई. के जारी होने से 30 दिनों के अंदर जमा करवानी होगी। उसके बाद 75 प्रतिशत बकाया रकम लम-सम 5 प्रतिशत रीबेट पर जमा कराई जा सकती है या बकाया रकम 6-6 महीनों के समय के बाद 6 किश्तों में 12 प्रतिशत ब्याज के साथ जमा करवाई जा सकतीं हैं।
      अतिरिक्त मुख्य सचिव ने बताया कि अजिऱ्याँ विभाग के दफ़्तर में जमा करवाने से ऑनलाईन भी अप्लाई की जा सकतीं हैं। उन्होंने कहा कि ऑनलाईन अप्लाई करने के लिए आवेदक को विभाग की वैबसाईट www.adaamritsar.gov.in  पर जाकर ऑनलाईन अप्लाई करना होगा और अपेक्षित फीस आर.टी.जी.एस. /एन.ई.एफ़.टी. के द्वारा अदा करनी होगी। उन्होंने कहा कि अलॉटियों को प्लाटों के कब्ज़े अलॉटमैंट पत्र जारी होने के 90 दिनों के अंदर दिए जाएंगे।

Leave a Reply