पंजाब में अमन-शांति कायम, जानी नुकासन की कोई घटना नहीं घटी

Punjab
By Admin

सोमवार को राम रहीम को दी जाने वाली सजा के मद्देनजर अह्म स्थानों पर सुरक्षा के कड़े बदोंबस्त किये 

इंटरनेट सेवाएं मंगलवार तक बंद रहेंगी, यदि जरूरत पडने पर कफ्र्यू लगाया जा सकता है-मुख्यमंत्री पंजाब

एहतियात के तौर पर 19 व्यक्तियों को हिरासत में लिया, सभी डेरा स्थानों पर तलाशी, कानूनी कार्रवाही जारी

चंडीगढ़, 26 अगस्त:

          डेरा सच्चा सौदा के मुखी राम रहीम को हाने वाली सजा के मद्देनजर राज्य के महत्वपूर्ण स्थानों पर सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त कर दिये गये हैं और जरूरत पडऩे पर सोमवार को राज्य के संवेदनशील क्षेत्रों में पुन: कफ्र्यू लगाने की  तैयारी की गई है।

          मुख्यमंत्री कै प्टन अमरिंदर सिंह ने आज यहां कहा कि राज्य में मोबाइल डाटा सेवाओं पर पाबंदी  मंगलवार तक रखने का भी निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि एहतियात के तौर पर 19 व्यक्तियों को हिरासत में लिया गया  है और डेरा मुखी को सजा सुनाये जाने तक यह कार्यवाही जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख नेताओ को जो अपने समर्थकों को भडक़ा सकते है, को एहतियात के तौर पर या भरोसे में या हिरासत में लिया जा रहा है।

         

सी.बी.आई. की अदालत द्वारा राम रहीम को दोषी करार किये जाने के बाद पंचकुला में घटी हिंसा के मद्देनजऱ राज्य में अमन-कानून की ताज़ा स्थिति संबंधी मीडिया के साथ बातचीत करते हुये मुख्यमंत्री ने बताया कि पंजाब में बीती रात से किसी भी जगह कोई असुखद घटना नहीं घटी। उन्होंने स्पष्ट किया कि बीते दिन सूबे के कुछ इलाकों में घटीं मामूली घटनाओं में कोई जानी नुक्सान नहीं हुआ।

        मुख्य मंत्री ने पंचकुला की हिंसा में पंजाब के सात व्यक्तियों की मौत होने जाने पर दुख प्रकट किया। हरियाणा से अबतक प्राप्त हुई जानकारी अनुसार इस हिंसा में घायल  हुए 250 व्यक्तियों में से 45 व्यक्ति पंजाब से हैं। उन्होंने बताया कि हिंसा में मारे गए सात व्यक्तियों का संस्कार अमन-सुरक्षा के साथ करने को यकीनी बनाने के लिए ठोस कदम उठाए जा रहे हैं।

        कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बताया कि सूबे में बीते दिन जिन जिलों में करफ्युू लगाया गया था, उन में से तीन जिलों में कफ्र्यूुू हटा दिया गया जबकि बाक ी स्थानों पर ढील दी गई है। उन्होंने कहा कि संबंधित जिलों के डिप्टी कमीशनरों को ज़मीनी हालात के मुताबिक कफ्र्यू संबंधी अगला फ़ैसला लेने के लिए अधिकार दिए गए हैं।

        मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि राम रहीम केस में अदालत में सज़ा सुनाए जाने के बाद भी सूबे में सुरक्षा में कोई ढील नहीं आने दी जायेगी। मुख्य मंत्री ने कहा कि वह सूबे के लोगों के साथ वायदा करते हैं कि उनकी सरकार सोमवार को सूबे में किसी तरह की गड़बड़ी को बर्दाश्त नहीं करेगी और न ही किसी को सूबे के माहौल में कड़वाहट पैदा करने की इजाज़त दी जायेगी।

        कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बताया कि पुलिस आधिकारियों ने सूबे में डेरे के 98 नाम चर्चा घरों का दौरा किया है और लाठियों, पाईपों, राडों, कुल्हाडिय़ों और पेट्रोल बम बरामद किये गए। सूबे में अमन-शांति को किसी भी कीमत पर भंग न होने देने का प्रण लेते हुये मुख्य मंत्री ने कहा कि जब तक वह सूबे के मुखी हैं, तब तक वह अमन-चैन को यकीनी बनाने की निगरानी निजी तौर पर करेंगे।

        एक प्रशन के उत्तर में मुख्यमंत्री ने संबंधित आधिकारियों को बीते दिन की हिंसा में जायदाद के हुए नुक्सान की सूची तैयार करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि यह सूची उनकी सरकार द्वारा पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में पेश की जायेगी जिसमें  हिंसा में हुए नुक्सान की लागत डेरे से वसूलने के निर्देश दिए हैं।

रविवार को पंजाब के कुछ प्रभावित इलाकों का दौरा करने की योजना बना रहे मुख्यमंत्री ने शांति बनाई रखने के लिए निचले स्तर पर काम करन वाले लोगों और सुरक्षा फोर्स को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि हरियाणा की बड़ी गलती पंचकुला में लोगों के भारी एकत्रता को जमा होने दिया और वह इस एकत्रता को रोकने में नाकाम रहे।

    पंचकुला में डेरा प्रेमियों को लेजाने वाली गाड़ीयां पंजाब द्वारा न रोके जाने के लगाऐ गए दोषों पर प्रतिक्रिया प्रकट करते हुए मुख्य मंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार ने इस मुद्दे पर कभी भी पंजाब सरकार के पास पहुंच नहीं की।

    एक अन्य प्रशन के उत्तर में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि उन्होंने और हरियाणा के मुख्यमंत्री के बीच कोई संपर्क नहीं हुआ, चाहे कि पंजाब के डी.जी.पी. लगातार हरियाणा के डी.जी.पी. के साथ संपर्क में रहे हैं। पंजाब पुलिस की तरफ से प्राप्त हुई सारी ख़ुफिय़ा जानकारी हरियाणा के साथ सांझी की गई है।

    कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बताया कि उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ बातचीत भी की और उनको पत्र भी लिखा। उनकी सरकार ने 13 अगस्त को पंजाब के लिए अतिरिक्त सुरक्षा का मुद्दा उठाया और सुरक्षा को यकीनी बनाने के लिए प्रत्येक के पास काफी समय था। उन्होंने कहा कि समूची पंजाब पुलिस और सरकार कल पूरी तरह फील्ड में थी जिसने सूबे में शांति बनाये रखने को यकीनी बनाया।

    ऐसे डेरों को लगातार राजनितिक पुशतपनाही मिलने संबंधी पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह फ़ैसला विभिन्न  राजनितिक पार्टियों द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर लिए जाने वाला है। पंजाब में डेरे द्वारा किसी भी तरह की गड़बड़ फैलाने की आज्ञा न दिए जाने पर ज़ोर देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस तरह घटनाएं घटित हो रही हैं, उस से नहीं लगता कि राजनितिक पार्टियां भविष्य में डेरों से समर्थन लेंगी।

अपने घरों में वापस जाने के लिए डेरो के समर्थकों को पंजाब सरकार द्वारा सुविधा दिए जाने संबंधी  किये गए प्रबंधों के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि इस संबंध में बसों और ट्रकों का प्रबंध किया गया जिससे वह वापस जाते हुए कोई भी गड़बड़ी न कर सकें। उन्होंने कहा कि इन बसों और ट्रकों के द्वारा लेजाए गए 65 प्रतिशत व्यक्ति हरियाणा की तरफ चले गए हैं।

    रेल और बस सर्विस की फिर बहाली के सवाल के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि यह हरियाणा पर निर्भर करता है कि वह कितनी जल्दी स्थिति पर नियंत्रण करने में सक्षम होता है क्योंकि यह गाडिीयां हरियाणा में से ही गुजऱनीं हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब को बस और रेल यातायात की बहाली पर कोई ऐतराज़ नहीं है।

    कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कल की हिंसा दौरान डेरा समर्थकों द्वारा मीडिया पर किये गए हमलो की तीखी आलोचना की। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह की हिंसा  स्वीक ार्य नही है।

    सोमवार के लिए किये गए प्रबंधों की विसतृत जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि केंद्र /सूबे के सरकारी कार्यालय में सुरक्षा प्रबंध मज़बूत कर दिए गए हैं। रेलवे की जायदाद, अन्य महत्वपूर्ण इमारतों और सार्वजनिक जायदाद की सुरक्षा के लिए पूरे प्रबंध किये गए हैं। देहाती इलाकों में बिजली ग्रिड, देहाती सेवा केन्द्रों और देहाती सेहत केन्द्रों पर विशेष निगरानी रखी जा रही है।

    सूबे के डेरों के बाहर सुरक्षा प्रबंध मज़बूत बनाऐ गए हैं। डेरा श्रद्धालुओं को नाम चर्चा घरों में इकठ्ठा होने की आज्ञा नहीं दी जाऐगी। नाजुक क्षेत्रों में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किये गए हैं और गश्त बढ़ाई गई है। प्रवक्ता ने बताया कि नीम फ़ौजी बलों और पुलिस कर्मचारियों द्वारा शहरी और देहाती इलाकों में फ्लैग मार्च किया जा रहा है।

    मुख्यमंत्री के साथ प्रैस कान्फ्रेंस में कैबिनेट मंत्री ब्रह्म महिंदरा, मुख्य मंत्री के सलाहकार बी.आई.एस. चाहल, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रमुख सचिव सुरेश कुमार, मुख्य सचिव करन अवतार सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह मनदीप सिंह संधू, डी.जी.पी. सुरेश अरोड़ा, डी.जी.पी. इंटेलिजेंस दिनकर गुप्ता, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री तेजवीर सिंह, मुख्यमंत्री के विशेष मुख्य सचिव गुरकीरत किरपाल सिंह, पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान सुनील जाखड़, पंजाब मंडी बोर्ड के चेयरमैन लाल सिंह और विधायक गुरमीत सिंह सोढी उपस्थित थे।

Leave a Reply