#कसौली आरएंडबी महोत्सव : ऊषा उत्थुप ने पाश्चात्य, हिंदी संगीत को एकसूत्र में पिरोया

Uncategorized
By Admin

April 16, 2017 :कसौली (हिमाचल प्रदेश)। कसौली रिदम एंड ब्लूज महोत्सव के आखिरी दिन शनिवार को ऊषा उत्थुप ने पाश्चात्य और हिंदी संगीत को एकसूत्र में पिरोकर पेश किया। ‘हरिओम हरि..’, ‘रंबा हो..’, ‘दमा दम मस्त कलंदर..’ और स्टीवी वंडर के गीत ‘आई जस्ट कॉल्ड टू से आई लव यू..’ जैसे गानों से माहौल में जान फूंक दी।

ऊषा उत्थुप के दीवानों ने उनके मंच पर चढ़ते ही ऊषा-ऊषा के नारे लगाने शुरू कर दिए। दूसरे एवं आखिरी दिन के कार्यक्रम की शुरुआत कामाक्षी खन्ना के संगीत से हुई। पाश्चात्य संगीत से भरी उनकी परफॉर्मेस ने दर्शकों की वाह-वाही लूटी। इसके बाद संत कबीर के दोहों को संगीत में पिरोकर गाने के लिए मशहूर नीरज आर्या कबीर कैफे बैंड ने सूफी संगीत का जादू बिखेर दिया जिसमें हर वर्ग के लोग झूमने पर मजबूर हो गए।

संगीत प्रेमी ,उत्साही, समाज सेवी # कसौली आरएनबी को एक बड़ी सफलता दिलाने के उद्देश्य से इकठा होते हैं

पॉप, रॉक, भारतीय शास्त्रीय, बॉलीवुड हिट्स और संगीत के रोलरकोस्टर कसौली आरएनबी में इस बार ६०० संगीत प्रेमियों जिन्हें कहीं नाच गाने , संगीत के साथ साथ यह सुकून भी था की उनके यहाँ होने की वजह से जेनेसिस फाउंडेशन की वजह से कुछ ऐसे बच्चों का भला होगा जो की अपने बुते पर इलाज से वंचित रह जाते

Jonita Gandhi at Genesis Foundation's Kasauli RnB 2017

# कसौली आरएनबी, जो भारत के कुछ सबसे ज्यादा प्रतीक्षारत संगीत समारोहों की सूची में शामिल है, कलाकारों, संगीत प्रेमियों और फाउंडेशन के समर्थकों के मिलान का संगम है। इस महोत्सव से अर्जित राशि हृदय विकार वाले गंभीर रूप से बीमार बच्चों के उपचार में जाते हैं। इसी सिद्धांत पर जेनेसिस फाउंडेशन के कुछ समर्थकों में हैं एफआईटीबीटी और मॉन्स्टर डॉट कॉम तथा इन सभी ने इस प्रयास को सफल बनाने में योगदान दिया है।

यूट्यूब से हिट हो चुकीं और ‘ऐ दिल है मुश्किल’ के ब्रेकअप सांग से सनसनी मचा चुकीं जोनिता गांधी के मंच पर पहुंचते ही लोगों ने तालियों और सीटियों से उनका स्वागत किया। जोनिता के दीवाने उनके हर गाने पर झूमते नजर आए। उनके गानों पर झूमने का यह सिलसिला लीजेंड ऊषा उत्थुप के आने तक जारी रहा। ऊषा उत्थुप के आते ही माहौल और संगीतमय हो उठा।

इस महोत्सव की खास बात यह है कि इस कार्यक्रम के जरिए जमा होने वाली राशि का इस्तेमाल गरीब एवं दिल की बीमारियों से पीड़ित बच्चों के इलाज में किया जाएगा।

इस महोत्सव में शामिल कृति आजाद ने बताया, “मैं ऊषा उत्थुप, नीरज आर्या कबीर कैफे को सुनने के लिए यहां आई हूं। अच्छा संगीत सुनना किसे अच्छा नहीं लगता लेकिन कसौली आरएंडबी के जरिए गरीब बच्चों की मदद की जा रही है तो समाज में योगदान देने का इससे अच्छा अवसर और क्या हो सकता है।”

महोत्सव में शामिल 10 वर्षीय जतिन ने को बताया, “जोनिता गांधी मुझे बहुत पसंद हैं। मैंने यूट्यूब पर उन्हें बहुत सुना है और आज सामने से उन्हें सुनने का मौका मिल रहा है।”

जेनेसिस फाउंडेशन ने दिल की बीमारियों से त्रस्त गरीब बच्चों के इलाज के लिए साल 2012 में इस महोत्सव की शुरुआत की थी और अब तक बड़ी संख्या में गरीब बच्चों की मदद की जा चुकी है। इस दो दिवसीय संगीत महोत्सव में शामिल होने के लिए टिकटों का मूल्य 9,500 रुपये रखा गया था।

जेनेसिस फाउंडेशन के संस्थापक ज्योति सागर ने बताया, “हमारा शुरू से मानना रहा है कि हमें गरीब लोगों के जीवन में कुछ बदलाव लाना है, तो कसौली आरएडंबी से बेहतर और क्या हो सकता था। कसौली रिदम एंड ब्लूज महोत्सव से इकट्ठा हुई धनराशि का उपयोग दिल की बीमारियों से ग्रस्त गरीब बच्चों के इलाज के लिए किया जाएगा।”

Leave a Reply